कामुकता की कमी (लो-लिबिडो)

कामुकता की कमी यानी सेक्स करने की इच्छाशक्ति न पैदा होना या मूड न बनना। यह समस्या भी बहुत सारे पुरुषों-महिलाओं में पाई जाती है। इस समस्या में व्यक्ति की सेक्स के प्रति दिलचस्पी ही खत्म हो जाती है, जिसके कारण उन्हें अपने पार्टनर के सामने शर्मिन्दा होना पड़ता है। बहुत सारे शादी-शुदा जोड़ों में लड़ाई-झगड़े और खराब रिश्ते का कारण कामुकता की कमी भी है। आमतौर पर इस समस्या के कारण पुरुषों में आत्मसम्मान और आत्मविश्वास की कमी पाई जाती है। इस सेक्स समस्या के निम्न कारण हो सकते हैं-

  • कोई गंभीर बीमारी
  • तनाव और डिप्रेशन (अवसाद)
  • टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन की कमी
  • रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम
  • खराब रिश्ते
  • नींद से जुड़ी समस्याएं
  • कुछ खास दवाओं के सेवन के कारण

समाधान: फोर प्ले, सेक्शुअल फैंटेसी, पोजीशन और जगह बदलकर, पार्टनर के साथ पॉर्न देखकर, काउंसलर की सलाह आदि के द्वारा आप अपनी खोई कामुकता दोबारा पा सकते हैं।

आयुर्वेदिक, नेचुरल सप्लीमेंट्स से पाएं सेक्स समस्याओं का हल |

टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन की कमी (लो-टेस्टोस्टेरॉन)

टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन को पुरुषत्व का हार्मोन कहा जाता है। शरीर के ज्यादातर फीचर जो पुरुषों को महिलाओं से अलग करते हैं, इस हार्मोन के कारण होते हैं। उम्र बढ़ने के साथ पुरुषों में इस हार्मोन की कमी आती है। अमेरिकन यूरोलॉजिकल एसोसिएशन के अनुसार हर 10 में से 2 पुरुषों को 60 साल की उम्र के बाद टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन की कमी से जूझना पड़ता है। इस हार्मोन की कमी के कारण निम्न समस्याएं हो सकती हैं, जो व्यक्ति की सेक्स लाइफ को खराब करने के लिए काफी हैं-

  • वीर्य की कमी
  • इरेक्टाइल डिस्फंक्शन
  • बहुत अधिक थकान
  • बाल झड़ने की समस्या
  • मोटापे की समस्या
  • कामुकता में कमी
  • मांसपेशियों का वजन कम होना
  • चिड़चिड़ापन और मूड में बदलाव
  • हड्डियां कमजोर होना

समाधान: हार्मोन की ज्यादा कमी होने पर डॉ

क्टर 'टेस्टोस्टेरॉन रिप्लेसमेंट थेरेपी' की सलाह दे सकते हैं। अन्यथा वजन कंट्रोल करके, रेगुलर एक्सरसाइज करके, डाइट में हेल्दी पौष्टिक चीजें शामिल करके टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन को बढ़ाया जा सकता है। बाजार में कुछ सप्लीमेंट्स भी मौजूद हैं जो टेस्टोस्टेरॉन बढ़ाने का दावा करते हैं, मगर इनके प्रयोग से पहले डॉक्टर की सलाह लेना जरूरी है।

ऑर्गेज्म की समस्या

ऑर्गेज्म यानी चरमोत्कर्ष, सेक्स के दौरान चरमसुख तक न पहुंचने की समस्या को एनॉर्गेज्मिया या ऑर्गेज्मिक डिसऑर्डर कहते हैं। ये समस्या ज्यादातर महिलाओं में पाई जाती है, मगर कुछ पुरुष भी इसके शिकार होते हैं। ज्यादातर मामलों में इस समस्या से ग्रस्त पुरुष हस्तमैथुन और ओरल सेक्स के दौरान तो चरमोत्कर्ष तक पहुंचकर स्खलित हो जाते हैं, मगर योनि सेक्स के दौरान वो चर्मोत्कर्ष तक नहीं पहुंच पाते हैं। ये समस्या मुख्यतः मनोवैज्ञानिक है, इसलिए निम्न कारणों से हो सकती है।

  • सेक्स के दौरान किसी तरह का अपराधबोध (गिल्ट)
  • सेक्स को लेकर नकारात्मक सोच
  • पार्टनर को संतुष्ट न कर पाने का डर
  • पहले कभी सही गई यौन प्रताड़ना
  • टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन की कमी
  • थायरॉइड रोग

समाधान: इस समस्या को ठीक करने के लिए साइकोथेरेपी की जरूरत पड़ती है, जिसके लिए डॉक्टर, सेक्सोलॉजिस्ट या मनोवैज्ञानिक की सलाह ली जा सकती है।

पेरोनीज रोग

पेरोनीज एक ऐसा रोग है, जिसमें व्यक्ति के लिंग में कोई गांठ हो जाती है या उसका लिंग टेढ़ा हो जाता है। आमतौर पर ये समस्या लिंग में लगने वाली किसी चोट या सर्जरी के कारण होती है। इसके अलावा बहुत अधिक धूम्रपान करने वालों और डायबिटीज के मरीजों को भी ये समस्या हो सकती है। पेरोनीज रोग के कारण व्यक्ति को सेक्स करते समय दर्द का अनुभव होता है।

समाधान: इस समस्या में डॉक्टर की सलाह लेना ही उचित है।

Medically reviewed by Rishabh Verma, RP